90 वर्षीय बुज़ुर्ग महिला ने अपनी चित्रकला से इस गाँव को खूबसूरत बना दिया!

जैसे जैसे जीवन बीतता जाता है और उम्र बढ़ती जाती है, तो हर एक गुज़रते दिन के साथ जीवन आपके लिए कुछ और काम आप के नाम लिखते जाता है, जिन्हें हमें पूरा करना होता है. जीवन भर काम करते-करते अंततः आप रिटायर हो जाते हैं और उसके बाद क्या?

जब आपके पास करने के लिए कोई काम नहीं होता तो आप अपने जीवन का लक्ष्य खो देते हैं. परन्तु 90 वर्ष की इस बुज़ुर्ग महिला ने अपनी बोरियत का उपाय ढूंढ निकाला और सेवानिवृति के बाद उन्होंने चित्रकला को अपना शौंक बना लिया.

एगनेस केस्पेर्कोवा (Agnes Kasparkova) एक सेवानिवृत कृषि कर्मचारी हैं जिन्होंने अपने खाली समय को बिताने के लिए, एक छोटे से चेक (Czech) के गाँव में लूका (Louka) की इमारतों की दीवारों पर चमकदार नीले रंग के पारंपरिक मोरावियन रूपांकनों (Moravian motifs) को चित्रित करना शुरू कर दिया. फ़ूलों के चित्र बनाने के लिए उनका पसंदीदा स्थान गाँव का एक चैपल (Chapel) है.

एगनेस को अपनी आयु से कोई मतलब नहीं है और वह केवल हाथ में ब्रश और पेंट लेकर ख़ूबसूरत पारंपरिक मोरावियन कलाकृतियाँ बनाने में सक्षम हैं. वह जो भी काम करती हैं उसे बहुत ही दिल से करती हैं.

1. यह पारंपरिक कला आँखों को बहुत ही सुहावनी लगती है!

Credit: Facebook

2. गाँव की इमारतें ही उनका कैनवास है!

Credit: Facebook

3. गाँव में हर कोई उनकी कला की सराहना करता है!

Credit: Facebook

4. क्या आप एगनेस से अपने घर की दीवारों को पेंट करवाना चाहेंगे?

Credit: Facebook
RELATED