छोटे शहर की इस लड़की प्रियंका ने विश्व के “100 सबसे प्रभावशाली लोगों” में अपना नाम दर्ज कराया!

धैर्य और कड़ी मेहनत से, प्रियंका चोपड़ा बॉलीवुड और हॉलीवुड दोनों में सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री बन गई हैं। छोटे शहर की इस लड़की ने सभी पुरानी मान्यताओं को तोड़ कर मुंबई से मैनहट्टन (MANHATTAN) तक का सफ़र तय किया। Yourstory के अनुसार, प्रियंका ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “मेरा मानना है कि भाग्य और कड़ी मेहनत दोनों साथ-साथ चलते हैं. मैं इंजिनियरिंग  की पढाई कर रही थी जब मेरी माँ और भाई ने मेरी तस्वीरें मिस इंडिया के प्रतियोगिता में भेजी। मुझे तो इसके बारे पता ही नहीं था, अगर यह भाग्य नहीं तो और क्या हो सकता है?” 

Credit: Instagram

प्रियंका को उनकी कामयाबी रातों रात नहीं मिली। जमशेदपुर में भारतीय सेना के दो चिकित्सक, डॉ. अशोक और डॉ. मधु चोपड़ा घर में जन्मी प्रियंका का बचपन ज़्यादातर अलग अलग शहरों में गुज़रा. युवावस्था के दिनों में अमेरिका जाने से पहले वह लखनऊ, दिल्ली, चंडीगढ़, बरेली और पुणे जेसे शहरों में रह चुकी थी। इसके बाद वह भारत लौट आई और जल्द ही फेमिना मिस इंडिया सौंदर्य प्रतियोगिता में प्रवेश कर लिया और 2000 में मिस वर्ल्ड का खिताब भी जीत लिया।

Credit: Instagram

50 वीं मिस वर्ल्ड ब्यूटी पेजेंट के दौरान उनके एक इंटरव्यू में, उन्होंने जवाब देते हुए मिस वर्ल्ड के प्रति लोगों का नज़रिया ही बदल दिया। 18 वर्षिय मिस वर्ल्ड प्रियंका ने तब कहा “मिस वर्ल्ड बनना मेरी कामयाबी की पहली सीढ़ी थी। यह एक ऐसा मंच था जहाँ मैं लोगों की सोच और नज़रिया बदल सकती थी, जो मेरे हिसाब से सबसे बड़ी ताकत है।”

7 खून माफ़ का एक दृश्य

Credit: Daily master news

बर्फी का एक दृश्य

Credit: Indian Express

तब से लेकर आज तक अपने मज़बूत आत्मविश्वास के कारण वह अपने सारे सपने पूरे कर रही हैं। एक छोटे शहर की लड़की जो आज अंतर्राष्ट्रीय हस्ती बन कर लाखों लोगो के लिए प्रेरणा बन चुकी है। अगर हम बॉलीवुड में उनके करियर को करीब से देखेंगे, तो हम देख सकते हैं कि उन्होंने सफलता से ज्यादा हार देखी है। लेकिन उन्होंने अपने सपने को नहीं छोड़ा और आगे बढती गई. जल्द ही ‘कमीने, ‘7 खून माफ’, ‘बर्फी’, ‘मैरी कॉम’ और ‘बाजीराव मस्तानी’ जैसी सफल फिल्मों के साथ प्रियंका चोपड़ा ने अपने अभिनय के असली कौशल को दिखाया। उसके बाद वह सफलता के शिखर पर बढती गई!

Credit: Twitter

टाइम मैगज़ीन ने उन्हें “विश्व के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों” के नामों में शामिल किया है। अपने शो ‘क्वांटिको’ से प्रियंका ने अमेरिका में भी धूम मचा दी। प्रियंका ने बॉलीवुड और हॉलीवुड दोनों जगहों पर अपनी पहचान बनाई है। इतनी सफलता के बावजूद दुनिया को बेहतर बनाने के प्रयास के लक्ष्य से प्रियंका दूर नहीं हुई। प्रियंका, शिक्षा, स्वास्थ्य और महिला सशक्तिकरण के संबंध में कई सक्रिय अभियानों में शामिल हैं।

Credit: Instagram

2010 में, उन्हें यूनिसेफ (UNICEF) के राष्ट्रीय राजदूत के रूप में नियुक्त किया गया, जो विशेष रूप से बाल अधिकारों के प्रचार के कामकाज के लिए है। ‘दीपशिखा’ एक प्रमुख अभियान है जिसमें वह सक्रिय रूप से शामिल है, जिसका उद्देश्य युवावस्था और किशोरवस्था के लड़कियों में जीवन कौशल, उद्यम कौशल और नेटवर्किंग कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने के माध्यम से महिलाओं के समूह को मजबूत करता है।

यूनिसेफ (UNICEF) और अन्तराष्ट्रीय लक्ष्य की एक तस्वीर

Credit: Twitter

प्रियंका विश्वभर में हर लड़की के लिए एक प्रेरणा बन गई है। उन्होंने विश्वभर में हर भारतीय का सिर गर्व से ऊँचा कर दिया है, और विश्व को बेहतर स्थान बनाने के लिए अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित किया है। हम प्रियंका को हमेशा हर कार्य में सफलता की शुभकामनाएं देते हैं!

RELATED